पॉलिटिकल लव: प्यार को भी आधार से लिंक करा दें?


अच्छा बताओ हमारे प्यार में कोई कमी तो नहीं है ?
नहीं हमारा प्यार एकदम MP की सड़कों की तरह है, यानी हमारा कोई मुकाबला ही नहीं है !
हाहाहाहा, चलो ये बात सब जगह बोल आता हूँ।
हाहाहाहा, रहने दो मज़ाक बन जायेगा।

आज कल बड़ा घर पर आने लगे हो पहले तो नहीं आते थे !
अरे बाबा शादी की डेट नजदीक आ रही है ना,
शादी की डेट आगे बढ़ा दें पंडित जी को बोलकर?
क्यों, पंडित जी चुनाव आयोग में हैं क्या ?
नहीं लेकिन मैं बोल दूँगी, जब तुम इम्प्रेस कर लो घर वालो को तब की डेट बताएं,
रहने दो पता चले हमारी शादी गुजरात चुनाव की तरह चर्चा में न आ जाए।

अच्छा ये बताओ तुम मुझे बचाने के लिए क्या कर सकते हो?
नया कानून ला सकता हूँ,
लेकिन कानून राजस्थान वाला लाना,
अरे उससे भी बढ़ कर लाऊंगा,

तुम बड़े गंदे हो
क्या हुआ बाबू ?
तुम मेरा झूठा नाम क्यों लगाए की हम बोले थे प्यार को चॉकलेट से जोड़ो?
चलो शुक्र है कि आधार से जोड़ने वाली बात नहीं बोले,
नहीं, तुम उतने भी पागल नहीं कि इतना बड़ा झूठ बोलो।

अच्छा देखो अब कुछ अनिवार्य नहीं है प्यार में,
अरे पहले तो तुम बोलती थी कि जब तक मैं ना आ जाऊँ खड़े रहना,
हां तो अब बोल रही हूँ न कि कुछ अनिवार्य नहीं है,
क्या यार कोर्ट की तरह तुम भी बदलती रहती हो,
लेकिन तुम जनता की तरह सब मान लेते हो, लव यू…

 

तुम मेरी बात पर कितना भरोसा करते हो?
उतना ही जितना मीडिया उप राज्यपाल पर करती है,
हाहाहाहा,यानी तुम मेरी बात पर सोचे समझे मान लेते हो,
लेकिन मैं डांस नहीं करूंगा बिना सोचे समझे,

तुम प्यार में कुछ तेजी लाओ ना,
अच्छा जल्द प्यार में नए फीचर लांच करता हूँ
देखो प्यार टिकट बुकिंग ना शुरू हो जाये
लेकिन तत्काल खाली मेरी कंफर्म होगी,हाहाहा

ध्यान से रहो आज कल फिल्मों के डायलॉग तक पर बवाल हो रहा है,
अरे हमारा लोकल डिब्बा तुम्हारी दुनिया की तरह नहीं है,
हां तभी तुम्हारा पॉलिटकल लव आज तक जिंदा है।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *