पॉलिटिकल लव: आओ विपक्ष की तरह एक हो जाएं


तुम गुस्सा हो क्या आज कल? लगता है हमारे रिश्ते में दरार आ गयी।

क्यों तुम भी लालू की तरह घोटाले करती हो जो मैं नीतीश जैसा गुस्सा हो जाऊँगा।

अरे तुम सामने से बोल नहीं रहे थे जैसे नीतीश नहीं बोल रहे थे, मुझे लगा मेरा समर्थन नहीं कर रहे हो।

अरे ऐसा कुछ नहीं है मैं तुमसे प्यार के लिए प्यार करता हूँ, कुर्सी के लिए नहीं।
पता है मेरे घर वालो ने तुम्हें बुलाया है, उनसे कैसे निपटोगे?

क्यों तुम्हारे घर वाले चीन हैं क्या? निपट लूँगा जैसे मीडिया आज कल निपट रहा है।

बस-बस रहने दो, बिना बात के घर वालों को भड़का दोगे।

तुम भी न प्यार में सरकारी नियम बना दी हो।

अब क्या कर दिया मैंने?

चॉकलेट न लाने पर दो दिन तक नहीं बोलती और न मिलने से एक दिन!

(गाय को मारने पर उम्रकैद तक का प्रावधान, रैश ड्राइव‌िंग से जान लेने पर स‌िर्फ 2 साल की सजा)

अरे बाबा आई लव चॉकलेट

चलो न देश के विपक्ष जैसे जैसा मुद्दों पर एक हो जाएं।

किस मुद्दे पर घोटाले वाले मुद्दे पर,

तुम न कभी तो मज़ाक से हट जाया करो, आतंकवाद वाले मुद्दे पर

हां यार हम दोनों तो हरदम एक हैं, हमें राजनीति की तरह दिखावे की आदत नहीं।

तुम हर दम मेरा साथ दोगे न वादा करो।

बिल्कुल मेरी जान, बोलो तो रेलवे के सारथी ऐप जैसा बन जाऊँ।

देख लो कहीं तुम भी मेरा साथ न दे पाओ जैसे वह यात्रियों का नहीं दे पा रहा।
तुम प्यार में कुछ बचाने की तो नहीं सोच रहे हो?

कैसे-कैसे सवाल करती हो, सोचती कहां से हो।

अरे तुम पॉलिटिकल लव करते हो,

करता हूँ लेकिन मैं सरकार नहीं

अगर तुमने मुझे तंग करना नहीं छोड़ा तो मैं…

तो क्या करने वाली हो?

मैं तुमसे मिलना बंद कर दूंगी।

वैसे ही न जैसे अमेरिका फण्ड देना बंद कर देगा अगर पाकिस्तान बिलकुल वैसे ही वह आतंकवाद खत्म नहीं करता और तुम तंग करना,

तुम भी तो मिलना नहीं बंद नहीं करते जैसे अमेरिका हथियार बेचना नहीं बंद करता,

अच्छा चलो रहने दो तुम बातो को बहुत घुमा देते हो,

अरे हम कोई ऐसा वैसा लव थोड़ी न करते हैं, हम पॉलिटिकल लव करते हैं।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *