पॉलिटिकल लव: प्यार की साइकिल जरा धीरे चलाओ पिया


तुम साइकिल चला लेते हो ?
अरे बाबा मैं कहां चला पाता हूं, और तुम?
मेरा भी तुम्हारे वाला हाल है।
चलो सही है जिसको चलानी आती है वो भी तो गिर रहा है।
अरे वो तो कुछ ज्यादा ही ‘तेज’ है इसलिए गिर गए।
अच्छा जी तुम भी कोई कम तेज नहीं हो सब बातें पकड़ लेती हो।

 

तुम्हारे घर पर मीटर है?
हां मीटर भी है और हर महीने बिल भी आता है।
अरे तो साहब के घर मीटर क्यों नहीं है?
अरे ये तो तभी जान पाओगी जब तुम साहब बनोगी।
अच्छा उसके लिए क्या करना होगा?
शाखा जाना पड़ेगा, वह भी नागपुर वाली में।

 

मैं चाहूं तो एक मिनट में सब कर सकती हूँ।
अच्छा CM भी बन सकती हो क्या?
हां वो भी बन सकती हूँ।
चुप हो जाओ मैगी को को बनाने में दो मिनट लगते है।
अरे अभी तुम मुझे जानते नहीं मेरा नाम भी बसंती है।

 

तुमने कुछ खाया?
अभी तो कुछ नहीं खाया है।
कब खाओगे जल्दी खा लिया करो।
अच्छा बाबा खा लेंगे चिंता मत करो।
चिंता तो है, तुम दिल्ली में जो हो।
अच्छा लेकिन मैं भूख से नहीं मरूँगा।

 

तुम मुझे क्या गिफ्ट दोगे?
मैं तुम्हें गाय गिफ्ट में दूंगा।
अरे क्यों मेरी मॉब लिंचिंग करवाना चाहते हो!
ऐसा नहीं है मैं बस संबंध सुधरना चाहता हूँ।
लगता है साहब के साथ तुम भी दौरे पर गए थे।
अरे तुम्हें कैसे पता चला मेरी जान?
असर दिख रहा है साहब का।

तुम कार चला लेती हो न?
हां आती तो है मुझे चलानी।
अच्छा चलो, अब मुझे रोज 700km घुमाओ।
अच्छा जी, मुझे क्या हरियाणा का समझ लिए हो क्या?
अरे नहीं मैंने सोचा वो चला सकते है तो तुम क्यों नहीं?
पागल उनकी गाड़ी बस कागजों पर ही चली है।
अच्छा तभी इतनी लंबी चल गई।

 

तुम कहाँ जा रहे हो?
अरे दूध लेने जा रहा हूँ गाय का।
मत जाओ मुझे नहीं पीना दूध।
अरे बाबा तुम्हें जरूरत है दूध की इस टाइम।
नहीं, पता चला दूध लेने गए और तुम्ही नहीं लौटे तो!
अच्छा नहीं जा रहा मैं, तुम्हें भी लिंचिंग का डर है!

 

तुम मेरा हाथ क्यों नहीं पकड़ते?
अरे बाबा सब देख रहे होते है हमें।
अच्छा उन्हें कोई नहीं देख रहा था क्या?
अरे किन्हें मेरी जान?
फेकू मामा को और पप्पू भइया को।
अरे वो तो गला काटने के लिए गले मिलते हैं।

 

तुम क्या देख रहे हो ?
अरे मैं तो डब्लूडब्लूई देख रहा हूँ, और तुम ?
मैं तो न्यूज़ चैनल देख रही हूँ।
अच्छा वही न जहाँ 5 हज़ार लेकर लड़ाई होती है।
हां यार सस्ती लड़ाई यही देखने को मिलती है।
सही बोल रही हो मैं भी डब्लूडब्लूई छोड़ कर यही देखूंगा।

 

तुम मुझ पर कितना विश्वास करते हो?
बहुत ज्यादा करते है मेरी जान।
अच्छा पक्का मेरे खिलाफ कभी अविश्वास प्रस्ताव तो नहीं लाओगे।
अरे बाबा मैं तेलंगाना से नहीं हूँ डरो मत।
हां तो मैं भी फेंकू सरकार नहीं हूँ।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *