Political Love

पॉलिटिकल लव: इश्क का बत्तख बाढ़ में उतारो पिया


यार यहाँ साँस लेने में दिक्कत हो रही है।
अच्छा जाओ बतख वाले तालाब में।
ठीक है असम की टिकट कराओ फिर।
क्यों तुम्हारे यहाँ बतख नहीं है क्या ?
बतख तो है पर ऑक्सीजन वाली सिर्फ असम में ही मिलेगी।

 

तुम्हें एक बात बताएं GDP के बारे में।
हां बताओ मेरी जान क्या नया है?
पता है मुगल हमले से पहले हमारी जीडीपी 27% थी दुनिया की।
अच्छा मुगल हमले से पहले वो जो 27% था वो मेरे खेत का ही था।
अरे क्यों मज़ाक कर रहे हो।
शुरू तो तुमने किया था न।

 

तुम नागपुर जाओगे क्या?
देखो बुलवाया तो गया है हमें।
अच्छा पहले तो बहुत मज़ाक बनाते थे नागपुर वाले मामा।
नहीं जाऊंगा तब भी मज़ाक ही बनाने वाले हैं मेरा।
तुम कहीं मत जाओ 2019 पर ध्यान दो बस।
हां यार इसके बाद शादी भी तो करनी है हमें।

 

अच्छा तुम कितने गंदे हो न।
क्यों जी मैं क्यों गंदा हूँ?
अरे तुम 1984 वाला साफ-साफ झूठ बोल दिए।
तुम कौनसा 2002 वाला सच बोली हो जरा बताओ।
हम तो हर दम ‘राइट’ हैं ना।
तो हम भी ‘सेंटर’ वाले हैं।

क्या बात आजकल पेट्रोल पंप खूब जा रहे हो।
यार क्या करें पेट्रोल लेने तो जाना ही पड़ेगा न।
अच्छा मुझे लगा पोस्टर देखने जा रहे हो।
तुम्हारा पोस्टर लगा होता तो जरूर जाता देखने।

 

यार ये बताओ तुम्हें कोई काम नहीं है क्या?
क्यों क्या हुआ अब मेरी जान ?
तुम हर बात पर नाम क्यों बदलने लग जाते हो।
अरे इस बार तो सम्मान में बदल रहे हैं।
बदल तो बस नाम ही रहे हो न।
हां जब नाम बदलेंगे तभी तो कुछ और बदलेगा।

यार एक बात बताओ?
हां बोलो बड़े परेशान लग रहे हो।
तुम्हें पता है ना मेरी कोई बहन नहीं फिर मैं साला कैसे हुआ?
अरे जब पूरे शहर के मामा बनोगे तो किसी के साले भी तो बनोगे न।
हां यार ये बात तो मैं भूल गया था ।

 

यार मुझे भी न खूब सम्मान चाहिए।
अच्छा लोटे वाला सम्मान चाहिए क्या मेरी जान?
अरे मुझे ज़िंदा रहते सम्मान चाहिए मर कर नहीं।
मुझे लगा तुम भी सम्मान पाने के लिए मरने को तैयार हो।
न बाबा न मुझे ऐसे मुझे लोटे वाला सम्मान न मर कर चाहिए और न ज़िंदा में।
अच्छा ठीक है लेकिन बाद में मत बोल देना कोई सम्मान नहीं देता है।
नहीं बोलूंगी मैं, यूपी वाली नहीं हूँ मैं।

तुम भी कुछ बनवा लो जी।
राम मंदिर और विष्णु मंदिर का कॉन्ट्रैक्ट तो निकल गया।
तो तुम प्यार का मंदिर बनवा लो।
हां सही बोल रही हो उसका कॉन्ट्रैक्ट कोई नहीं लेगा।
अच्छा जी वो क्यों मेरी जान?
क्योंकि वो कॉन्ट्रैक्ट बस फायदे के लिए ले रहे है।
अच्छा हां प्यार में तो फायदा नुकसान होता ही नहीं है।

 

ये कैसी-कैसी फोटो खिंचवाने लगे हो ?
अरे कुछ सोच रहा था तभी फोटो खींच दिए।
वैसे क्या सोच रहे थे तुम?
कुछ नहीं बस 2019 का सोच रहे थे कि क्या होगा?
ज्यादा न सोचो 2019 के बारे में, कोई अकेले नहीं आएगा।

 

तुम क्या खाओगे आज?
खीर बना लो यार।
अच्छा चीनी और दूध दोनों नहीं है।
चलो फिर बिहार चलते है लेने।
अरे रहने दो ज्यादा मीठा खाने से डाइबिटीज़ का खतरा है।
ये भी सही कह रही हो लेकिन खीर से प्यार भी बढ़ेगा।
अच्छा फिर चलो बिहार जल्दी।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *