खाली होते ही सुरेंद्र सिंह के पास पहुंच जाते हैं एजेंसी के पत्रकार?


भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के एक विधायक हैं। नाम है सुरेंद्र सिंह। बलिया की बैरिया विधानसभा सीट से विधायक हैं। इनकी अब तक की सिर्फ इतनी पहचान है कि यह सिर्फ बयान देते हैं और बयान ही नहीं, इनके बयान अकसर ऐसे होते हैं, जिनको मीडिया वेबसाइट्स पर जगह मिलती है। सोशल मीडिया पर भी खबरें खूब शेयर होती हैं। हालांकि, इसमें सबसे अहम योगदान एजेंसी के पत्रकारों का है।

आप थोड़ा सा ध्यान देंगे तो समझ आएगा कि जबतक लोकसभा के चुनाव चले, सुरेंद्र सिंह के बयान नहीं आए। दरअसल, सच यह है कि चुनाव के दौरान एजेंसियों के पत्रकारों के पास काम भर का मसाला मिलता रहा। ऐसे में सुरेंद्र सिंह के बयान लाए नहीं गए। फिर चुनाव खत्म, नतीजे आ गए, सरकार बन गई और पत्रकार हो गए खाली। ऐसे में अब खबरों का कोटा पूरा करने के लिए फिर से सुरेंद्र सिंह को निकाला गया।

आइए सुरेंद्र सिंह के कुछ बयानों पर नजर डाल लेते हैं।

1.मायावती जी खुद रोज फेशियल करवाती हैं, वो क्या हमारे नेता को शौकीन कहेंगी। बाल पका हुआ है और रंगीन करवाके आज भी अफने आप को मायावती जी जवान समझती हैं। 60 वर्ष उम्र हो गई है लेकिन सब बाल काले हैं।

2. विपक्षी राष्ट्र विरोधी हैं। इनके आका, किसी का इस्लाम में बैठा है तो किसी का इटली में बसता है। 2019 का चुनाव, इस्लाम बनाम भगवान होने जा रहा है। इसलिए भारत के लोगों, निर्णय कर लेना कि इस्लाम जीतेगा या भगवान जीतेगा।

3. उन्नाव रेप केस पर- आप बताइए कि चीन बच्चों की मां से कोई रेप करेगा? यह कुलदीप सिंह सेंगर के खिलाफ साजिश है। कोई बलात्कार नहीं हुआ है।

4.मैं दावे के साथ कह सकता हूं कि भगवान राम भी आ जाएं तो इस तरह की घटनाओं पर नियंत्रण नहीं लग सकता है।

5. इन अधिकारियों और कर्मचारियों से बेहतर तो वेश्याएं हैं, जो पैसा लेकर नाचने का काम तो रहती हैं। ये तो पैसा भी लेते हैं और काम भी नहीं करते हैं। अगर कोई कर्मचारी घूस मांगता है तो उसको घूंसा दो और नहीं मानता है तो जूता दो।

6. हाल ही में सुरेंद्र सिंह ने ममता बनर्जी को लंकिनी बताया था।

7. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम और वीर अब्दुल हमीद सरीखे कुछ अच्छे लोगों को छोड़ दें तो मुस्लिम समाज के ज्यादातर लोग राष्ट्रविरोधी और आतंकवादी स्वभाव के हैं। मोदी और योगी के युग में यह वायरस पनपने वाले नही हैं।

8.हर हिंदू पांच बच्चे पैदा करे तभी बचेगा हिंदुत्व।

9.राहुलजी भी अपनी कुल-परंपरा को आगे बढ़ाएं यह अच्छी बात है। उनकी माताजी (सोनिया गांधी) भी इटली में इसी पेशे से थीं और आज फिर सपना को भी उन्होंने अपना बना लिया। मैं तो धन्यवाद दूंगा राहुलजी को कि जैसे आपके (राहुल गांधी) पिताजी (राजीव गांधी) ने सोनियाजी को अपना बना लिया, आप भी आज भारत की राजनीति में सपना को अपना बनाकर के राजनीतिक नई पारी की शुरुआत करें।

10.जब राम और रावण का युद्ध होने वाला था तो रावण ने अपनी बहन शूर्पणखा को भेजा था, लगता है 2019 के चुनाव में राहुल रावण के रोल में होगा और मोदी राम के रूप में। राहुल रूपी रावण ने अपनी बहन शूर्पणखा को उतारा है। मान के चलिएगा कि लंका विजय हो गया है।

ऐसे बयान पढ़कर हो सकता है कि आपको लगे कि विधायक जी कम पढ़े-लिखे होंगे। जी नहीं, विधायक जी पहले मास्टर रहे हैं। एमए, बीएड और एमएड जैसी डिग्रियों के मालिक हैं। हालांकि, इनकी गलती उन पत्रकारों से कम है, जो इनके मुंह में हर मुद्दे पर बाइट के लिए माइक घुसेड़ते रहते हैं। सुरेंद्र सिंह ना तो मंत्री हैं, ना ही विधायक के अतिरिक्त उनकी कोई खास योग्यता है लेकिन उनसे हर उस मुद्दे पर बयान लिया जाता है, जिसमें वह मसालेदार बयान दे सकें।

इन 10 बयानों का सोर्स अगर आप ढूंढेंगे तो ज्यादातर में एक न्यूज एजेंसी मिलेगी। कुछ के ट्वीट यहां लगाए गए हैं और कुछ के आपको ढूंढने से मिल जाएंगे। आज यह लेख लिखे जाने के बाद भी ध्यान रखिएगा, जब एजेंसी को कोई खास मुद्दा नहीं मिलेगा तो वह सुरेंद्र सिंह जैसे बयानबीरों के बयान निकालकर लाएगी और ऑनलाइन मीडिया में उसकी खबरें बना करेंगी।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *