फेसबुक को बाबा पसंद हैं


फेसबुक कम कमाल नहीं करता है. इतना उस्ताद है कि उसे पता है कैसे लीड में बने रहना है. चाहे मामला डेटा चोरी का हो, कैम्ब्रिज एनालिटिका का हो या प्रसिद्धि का हो. फेसबुक है बहुत काइंया टाइप शातिर. बात ये है कि फेसबुक को भगवा रंग पसंद आ गया है. फेसबुक पर भाजपा के एक से एक धुरंधर हैं. कांग्रेसियों से कहीं ज्यादा, फेमस और सेलिब्रिटी टाइप के.

फेसबुक ने भारत के सबसे लोकप्रिय मुख्यमंत्री का खिताब योगी आदित्यनाथ को दिया है. क्या है न जब से यूपी में उप चुनाव का रिजल्ट आया था तब से उनकी इज्जत संगठन में घट गई थी. ऐसी खबर मार्केट में आई थी कि मोदी जी ने योगी बाबा से कहा था बाबा पिरधानमिंतरी बनोगे? कुल मिलाकर बात इतनी सी है कि बाबा के चेहरे पर ग्लो अब जाकर आई है. संगठन में न सही फेसबुक ही बाबा की वाहवाही कर दे.

माजरा क्या है?

फेसबुक ने एक जनवरी 2017 से 31 दिसंबर 2017 तक के बीच एक सर्वे किया जिसमें उसे देश के मुख्यमंत्रियों में योगी आदित्यनाथ के ही फॉलोअर सबसे ज्यादा बढ़े. बाबा को अब दिल्ली में किया जाएगा सम्मानित. फेसबुक ने अब बाबा जी से वक्त मांगा है बाबा आपको अवार्ड कब दूं?

लिस्ट में महारानी भी हैं

इस लिस्ट में दूसरे नंबर की मुख्यमंत्री हैं राजस्थान की रानी वसुंधरा राजे सिंधिया और तीसरे नंबर पर गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी. मतलब टॉप थ्री में भाजपा का जलवा. अरविंद केजरीवाल की भी पोजीशन अच्छी होनी चाहिए.

फेसबुक क्या चुनाव करेगा प्रभावित?
अभी एक संसदीय पैनल ने आईटी मंत्रालय को निर्देश दिया है कि मंत्रालय फेसबुक और अन्य सोशल नेटवर्किंग साइट्स से यह लिखित बयान ले कि भारत में होने वाले चुनावों में इनका हस्तक्षेप नहीं होगा.  लिख कर देने से फेसबुक ऐसा नहीं करेगा क्या? बिलकुल करेगा. कोई रोक भी नहीं पाएगा. क्योंकि सर, पैसा सबको ललचवाता है. फेसबुक को भी लालच तगड़ा धरा है.

डिजिटल इंडिया का जलवा है
फेसबुक को योगी पसंद हैं. मोदी को डिजिटल इंडिया. डिजिटलाइजेशन की कृपा फेसबुक पर कम तो बरसी नहीं है. चाहे चुनावों को लेकर किसी का माइंडसेट करना हो, चाहे जितना ऊधम काटना हो. फेसबुक हर कदम पर भाजपा के सरकार के साथ है. मोदी के साथ चिपक के फोटू हिंचवाना जुकरबर्ग साहब का किसको नहीं याद है. कुछ तो गुल खिलेगा ही. वैसे ही बहुतों की शिकायत है कि फेसबुक भाजपा के खिलाफ वाली खबरें नहीं दिखाता. अगर ऐसा है तो वाकई बहुतै खराब है. विपक्ष छोला-भटूरा खाकर धरने पर बैठ सकता है.
कोई बात नहीं, सब मोहमाया है. वैसे मुख्यमंत्री जी को झउआ भर बधाई. अल्लाह उन्हें और प्रसिद्ध बनाएं. अभी फेसबुक अवार्ड देगा दुआ करते हैं कि गूगल भी अवार्ड दे.


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *