आर्टिकल 370

आर्टिकल 370 का इंटरव्यू पढ़िए और जरा संभल जाइए


आज हम उनका इंटरव्यू लेने जा रहे है, जिनके बहुत दिन से हटने का इंतजार था। लगभग 50 सालों से कई लोगों ने उन्हें हटाने की कोशिश की लेकिन कामयाब नहीं हो पाए। अब उनके हटते ही उनके लोगों से ज्यादा बाहर के लोग खुश दिख रहे हैं। जी, आपने सही सोचा हम बात कर रहे हैं, आर्टिकल 370 की तो चलिए बिना वक्त गंवाए, उनसे सवाल जवाब शुरू करते हैं…

फलाने- नमस्कार 370 जी।
आर्टिकल 370- नमस्कार फलाने जी।

फलाने- आप को हटाने के बाद कैसा लग रहा है?
आर्टिकल 370- आपकी जानकारी अधूरी है, मैं हटा नहीं हूं बल्कि खत्म किए जाने जितना संशोधित हुआ हूं। बाकी संशोधन के बाद थोड़ा आज़ाद महसूस कर रहा हूँ मैं।

लोकल डिब्बा को फेसबुक पर लाइक करें।

फलाने- आपको क्या लगता है, आपको हटाकर गलती की सरकार ने?
आर्टिकल 370– देखो, जब लाए गए थे तो हटाए भी जा ही सकते थे लेकिन थोड़ा मेरे लोगों से पूछ लेते तो अच्छा होता। बाकी तो सब चलता रहता है।

फलाने– ये बाहर के लोग इतना खुश क्यों हैं?
आर्टिकल 370- क्योंकि उनके पास खुश होने के लिए कुछ और नहीं है तो फलाने जी कहीं तो मन बहलाना होगा न।

फलाने- आपके हटते ही लोगों ने प्लॉट लेने की बात शुरू कर दी है, क्या बोलना है इस पर।
आर्टिकल 370- उनसे एक बार पूछ लेना आप कि वो घर, गाड़ी और फोन की EMI पूरी हो गई कि नहीं। लोग भावना में कुछ ज्यादा ही बह जाते हैं।

फलाने-आपको क्या लगता है, आपका अंत हो गया?
आर्टिकल 370- फलाने जी हमारा परिवार बहुत बड़ा है। मेरे कई भाई भी हैं, उसमें से एक का नाम 371 है, जो अभी भी लगा हुआ है और मजे की बात ये है कि उसको कोई जानता भी नहीं है। इस बात बोलना चाहूंगा- ‘तुम कितने आर्टिकल मारोगे हर राज्य से आर्टिकल निकलेगा।’

पुराने पॉलिटिकल लव को यहां पढ़ें। 

फलाने– 370 जी लोग कह रहे हैं कि अब आपके यहां की लड़कियों से शादी करना आसान हो जाएगा, इस पर आपका क्या कहना है?
370– वे पहले अपनी जाति के बाहर तो शादी करके दिखाएं, तब आगे बात की जाए फलाने जी। बाकी तो जानते ही हैं कि आखिर में वो बोल देंगे कि ‘बाबू जी नहीं मानेंगे’।

फलाने– आप वहाँ से हट गए तो अब हिंसा भी खत्म हो जाएगी न?
370– देखिए मैं कभी हिंसा का कारण था ही नहीं, वो तो आपका लगाया गया AFSPA क्योंकि उसी के दम पर आपने वहां सेना भर रखी है। हिंसा वहाँ तब खत्म होगी, जब हम सब कश्मीर के साथ-साथ कश्मीरियों को भी अपनाना शुरू कर देंगे।

फलाने– सब कह रहे थे कि आपके लगने से ही वहां का विकास रुका हुआ था, इस पर कुछ कहना है आपको?
370– अच्छा जहां मैं नहीं हूं वहां तो विकास की बाढ़ आई हुई है ना? जहाँ मैं लगा था वहां का विकास इनके विकास मॉडल (गुजरात) से ज्यादा अच्छा था। न यकीन हो तो गूगल कर लीजिए आप। बाकी तो आप देख रहे हैं कि विकास कितना हो रहा है और किसका हो रहा है।

तो चलिए हम सवालों का सिलसिला यही खत्म करते हैं। आपने सुना कि कैसे 370 जी ने हमें सभी सवालों के जवाब दिए और जो मुद्दे चल रहे हैं, उनके ऊपर से पर्दा उठाया। उनकी बात को ध्यान रखिए और आप भी उल्टे-सीधे कमेंट करने से बचिए।


यह एक काल्पनिक इंटरव्यू मात्र है। कल्पना के सहारे यहां यह समझाने की कोशिश की जा रही है कि ऐसी स्थिति में हमें क्या तरीका अपनाते हुए शांति को बढ़ावा देना चाहिए।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *